स्तनों में कसावट लाना और उन्हें सूडोल बनाना किस तरह से मुमकिन हैं - IS IT POSSIBLE TO GIVE ENOUGH TIGHTNESS IN BREASTS

स्तनों मे कसावट लाना या फिर ढीले स्तनों को सूडोल बनाना, उनको अच्छी शैप देना बिल्कुल मुमकिन हैं।


इसके लिए सिर्फ दो ही तरीके हैं:

पहला ऑपरेशन द्वारा स्तनों में कसावट लाना और उन्हे सूडोल बनाना:

ऑपरेशन द्वारा अथवा कॉसमैटिक सर्जरी द्वारा स्तनों मे फिर से कसावट देने के लिए आजकल कई जगह उपलब्ध है जहां आप अपना इस का ऑपरेशन करवा के कसावट ला सकते है और सूडोल बना सकते हैं। इसे प्लास्टिक सर्जरी द्वारा किया जाता है।

ऑपरेशन के बाद इसका जख्म भी जल्दी भर जाता है। और ऑपरेशन का कोई निशान भी नहीं रहता हैं, लेकिन फिर भी ऑपरेशन करवाने वाली महिलाओं को कुछ हफ्ते तक कोई भी भारी काम ना करने की सलाह दी जाती है।

यह भी पढ़ें:

किस तरह से शीघ्रपतन और नपुंसकता आपको दे सकता मानसिक परेशानी - How Sexual Problems Can Gives You Depression


इस ऑपरेशन से स्तनों की मासपेसियों मे पूरी तरह से कसाव लाया जाता है। जो की स्थायी होता है। 

यह ऑपरेशन आसान होता है लेकिन फिर भी डॉक्टर इसे किसी विशेषज्ञ से ही करने की सलाह देते हैं। डॉक्टर बताते हैं की यह ऑपरेशन प्लास्टिक सर्जन से ही करवाया जाना चाहिए। यह काफी संवेदनशील प्रक्रिया है। और अनुभवी सर्जन को ही यह करना चाहिए। डॉक्टर यह भी सलाह देते है की जब तक बहुत जरूरी ना हो तो इसस तरह के ऑपरेशन से दूर ही रहना चाहिए। इसमे काफी खर्च भी आ सकता है। 

यह भी जरूर पढ़ें:

शुक्राणु बढ़ाने के लिए क्या खाए और किस से बचे, सब जानिए - Fitness Of Sperms

दूसरा आयुर्वेद नुस्खों से शरीर को बिना किसी नुकसान दिए स्तनों मे कसावट लाना:

प्राचीन समय में रानियाँ भी राजा को प्रसन्न करने के लिए ये नुस्खा अपनाती थी। जिस से राजा उनकी तरफ ज्यादा आकर्षित होता था। ऐसा आपने कई सारी मूवीज मे भी देखा होगा। उस वक्त हर रानी यही चाहती थी की राजा सबसे ज्यादा उसे प्यार करें, उसके साथ ही ज्यादा से ज्यादा संभोग करें। जिस वजह से वो हर मुमकिन कोशिश करती थी की राजा को संभोग के दौरान पूरी संतुष्टि दे सकें और अपनी और ज्यादा से ज्यादा आकर्षित कर सके। 

इसी वजह से वो अपने शरीर की सुंदरता के साथ साथ कुछ आयुर्वेदिक उपाये द्वारा अपनी स्तनों की मासपेशियों के कसाव का और उनको सूडोल रखने का पूरा ध्यान रखती थी। जिस से उनके स्तनों मे कई बार के संभोग के बाद भी और गर्भावस्था के बाद भी पहले जैसा ही कसाव बना रहता था। जिस वजह राजा ज्यादा उन्ही की तरफ आकर्षित हो।

इसी तरह से बहुत ऐसे बहुत सारे उपाये है आयुर्वेद में और आयुर्वेदिक उपचार हैं जिस से स्तनों में कसाव लाया जा सकता है वो भी बिना किसी साइड एफ़ेक्ट के, बिना किसी दर्द के और बिना किसी जख्म के।

इसी तरह के ऐसे कई उपाय है और आयुर्वेदिक उपचार है जिस से महिलायें अपने स्तनों में कसाव ला सकती हैं। जो की पूरी तरह से स्थायी रूप से होता है।

आयुर्वेद में ऐसी कई दुर्लभ औषधियाँ हैं जो इस प्रकार की कई इलाज बिना किसी साइड एफ़ेक्ट के कर सकती है। बस जरूरत है सही औषधि का पता होना और साथ ही उसकी मात्रा के बारे मे जानकारी होना। अगर सही औषधि को नियमित रूप से इस्तेमाल किया जाए फिर चाहे वो खाने की हो या लगाने की तो उसका असर पूरी तरह से होता है।

अगर स्तनों मे कसाव चाहिए या फिर शादीशुदा महिलाये पहले जैसे सूडोल स्तन चाहते है तो ऑपरेशन से कही ज्यादा बेहतर और सरल उपचार सिर्फ आयुर्वेद में हैं।

स्तनों मे कसाव लाना आयुर्वेदिक दवाइयों से पूरी तरह से संभव हैं। थोड़ा समय जरूर लगता हैं लेकिन बहुत आराम से आप इसे कर सकते हैं। यह पूरी तरह से स्थायी उपाये है और वो बिना किसी साइड इफेक्ट के। 

इसके लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है कॉल, ईमेल या व्हाट्सप्प के द्वारा। आपकी जानकारी पूरी तरह से गुप्त रखी जाएगी। आपको दवा भी गुप्त तरह से भेजी जाएगी। आपकी उम्र के मुताबिक ही दवा तैयार की जाती है। 

धन्यवाद।

स्तनों मे कसाव लाना और उन्हें सूडोल बनाना आयुर्वेदिक दवाइयों से पूरी तरह से संभव हैं। इसके लिए आप हमसे SHREE GANESH HERBAL PRODUCTS से संपर्क काल, व्हाट्सप्प या फिर ईमेल के द्वारा कर सकते है। 

इसी के साथ आप हमसे शीघ्रपतन, स्तंभन दोष और नपुंसकता की भी आयुर्वेदिक औषधियों से बनी दवाई ले सकते हैं। 

आपकी जानकारी पूरी तरह गोपनिए रखी जाएगी, इसस बात का हम पूरी तरह से ख्याल रखते है। 

नीचे दिए गए व्हाट्सप्प लिंक पर क्लिक करके सीधा व्हाट्सप्प पर आर्डर करें अथवा अपनी समस्या बताये➤
link 👇

या फिर आप ईमेल भी कर सकते है 
EMAIL - shreeganesh08@yahoo.com
admin@shreeganeshherbal.com 

Post a Comment

1 Comments

  1. But given many societies’ historic mistreatment of native peoples, this facet can sometimes really feel uncomfortable for gamers . Instead I use different tiles to indicate pure obstacles in these areas, and this doesn’t affect on} the gameplay. Why will we put so much effort into studying tables? Well, the multiplication tables carry on coming up within the subsequent primary school years and even when you're at secondary school. You don't see them as tables, however as half of} larger 카지노 mathematical problems. If you have have} any questions, feedback or ideas for Timestables.com, please use our contact form.

    ReplyDelete